Story

Best Moral Kahani in Hindi | हिंदी की नैतिक कहानियां

Moral Kahani in Hindi बचपन और कहानियों के बीच एक विशेष संबंध होता है। ये कहानियां जीवन के सरल और सहज सिखों को छोटे से छोटे रूप में सुनाकर बच्चों का व्यक्तित्व बनाती हैं। आजकल की तकनीकी दुनिया में, नैतिक कहानियों को अधिक महत्व नहीं दिया जा सकता है, लेकिन इनके अद्भुत सिखों का प्रभाव आज भी हमारे दिलों में बना रहता है। आज की जिंदगी में हम अक्सर बच्चों को मनोरंजन के लिए टीवी या मोबाइल के साथ छोड़ देते हैं, परंतु हमें यह याद रखना चाहिए कि उन्हें नैतिक मूल्यों से संपन्न करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

1. हाथी और बकरी की कहानी : Moral Kahani in Hindi

बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गाँव में एक हाथी और एक बकरी अच्छे दोस्त थे। यह गाँव अपनी सुंदर प्राकृतिक सौंदर्य और सामृद्धि के लिए प्रसिद्ध था। हाथी और बकरी का दोस्ती का सिलसिला गाँववालों के बीच एक सामान्य घटना से शुरू हुआ था।

Moral Kahani in Hindi

हाथी और बकरी दोनों ही बहुत अच्छे दोस्त थे, लेकिन उनमें एक अंतर था। हाथी बड़ा और भारी था, जबकि बकरी छोटी और हल्की थी। लेकिन इस अंतर के बावजूद, वे दोनों अपने अद्वितीयपन और समझदारी के लिए प्रसिद्ध थे।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा मेला आया। हाथी और बकरी ने इसे देखने का निर्णय किया और वहां पहुंच गए। मेले में भूखे नजर आने वाले आपत्तिजनक खाद्यों से भरा हुआ था, और लोग विभिन्न खेलों और रंग-बिरंगे आटे का आनंद ले रहे थे।

हाथी और बकरी ने मिलकर मेले का आनंद लेने का निर्णय किया। वे गाँववालों के साथ मिलकर खाने के लिए खूबसूरत खाद्य पदार्थों का स्वाद लेते हुए मेले का आनंद लेने लगे।

मेले के बाद, हाथी और बकरी अपने घर की ओर लौट रहे थे। रास्ते में, वे एक विचित्र बूँद देखते हैं। हाथी ने कहा, “देखो, यह कैसा पानी है? इसमें बहुत ही विचित्र गंध है।”

बकरी ने मुस्कराते हुए कहा, “यह कोई विचित्र बूँद नहीं है, यह एक विचार और अनुभव का प्रतीक है।”

हाथी ने आश्चर्यचकित होकर पूछा, “कैसे?”

Moral Kahani in Hindi

बकरी ने समझाया, “देखो, जब पानी बूँद बनता है, तो वह अपने आप को धरती में मिला देता है। यह हमें यह सिखाता है कि जीवन में हमें भी अपने अनुभवों को समर्थन के रूप में देखना चाहिए। हर अनुभव हमें कुछ सिखाता है और हमें मजबूत बनाता है।”

हाथी ने गहराई से सोचा और फिर मुस्कराया, “तुम बिल्कुल सही कह रही हो, बकरी। हमें हमारे जीवन के सभी पहलुओं को स्वीकार करना चाहिए, चाहे वे अच्छे हों या बुरे।”

बकरी ने आत्मसमर्पण भरे स्वर में कहा, “जी हाँ, हमें अपने जीवन को सकारात्मक रूप से देखना चाहिए, ताकि हम सीख सकें और मजबूत हो सकें।”

इसके बाद, हाथी और बकरी ने मिलकर अपने जीवन को सकारात्मक रूप से देखने का निर्णय किया। उन्होंने अपने जीवन के सभी पहलुओं को स्वीकार किया, चाहे वह सुखद हों या कठिन। उन्होंने सीखा कि हर परिस्थिति से कुछ न कुछ सीखा जा सकता है और विकास हो सकता है।

हाथी और बकरी ने अपने जीवन को और भी सजीव और उत्कृष्ट बनाने के लिए मिलकर प्रयास किया। उनकी साझेदारी और समझदारी ने उन्हें अधिक समृद्धि और सुख-शांति प्रदान की।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि जीवन में हमें हर पल को स्वीकारना चाहिए, चाहे वह सुखद हो या कठिन। सकारात्मक दृष्टिकोण और समझदारी हमें आगे बढ़ने में मदद कर सकती हैं और हमें मजबूत बना सकती हैं।

Suggestions Article
Short Motivational Story
Hindi Short Stories in Hindi
Best Hindi Short Stories in Hindi
Short Moral Stories in Hindi
Love Story in Hindi

2. बिल्ली और चूहों की कहानी : Moral Bachon Ki Kahani in Hindi

बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गाँव में एक बिल्ली रहती थी जिसका नाम मिट्टू था। मिट्टू बहुत ही खुश और खेलने की शौकीन बिल्ली थी। उसकी मित्रता गाँव के चूहों के साथ थी। चूहे भी बहुत ही होशियार और मनोहर थे।

moral bachon ki kahani in hindi

एक दिन, गाँव में एक बड़ा मेला आया। मिट्टू और चूहे मेले के लिए उत्साहित हो गए। मेला में विभिन्न खेल, राजमहल, और सौंदर्य सामग्रीयाँ देखने को मिलीं। मिट्टू और चूहे ने मिलकर सभी रोजमर्रा की चीजों का आनंद लेना शुरू किया।

मिट्टू ने देखा कि एक स्वर्ण और चमकीली कुंजी दुकान में बेच रही है। उसने चूहों से कहा, “देखो, यह कुंजी कितनी रोशनी में है! हमें इसे खरीदना चाहिए, ताकि हम किसी भी समझदारी को खोल सकें।”

चूहे ने मुस्कराते हुए कहा, “हाँ, मिट्टू, तुम बिल्कुल सही कह रही हो! चलो हम इसे खरीदते हैं।”

मिट्टू ने उस स्वर्ण कुंजी को खरीदा और दोनों ने खुशी-खुशी गाँव की ओर बढ़ते हुए उसका उपयोग करने की योजना बनाई।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा समाचार सुना गया कि एक राजा ने अपनी रानी के साथ एक बड़े समारोह का आयोजन किया है और उन्होंने सभी गाँववालों को आमंत्रित किया है। मिट्टू और चूहे ने इसे बहुत उत्साह से सुना और सोचा कि यह एक सुनहरा मौका है उनके नए कुंजी का प्रदर्शन करने का।

समारोह के दिन, मिट्टू और चूहे ने अपने स्वर्ण कुंजी को लेकर समाहित होकर राजा के दरबार में पहुंचे। उन्होंने अपनी आदान-प्रदान करते हुए उस स्वर्ण कुंजी से एक बड़े और सुंदर दरबार का दर्शन कराया।

राजा ने देखा और अचंभित होकर कहा, “यह कैसी रोशनी है? तुम्हारी कुंजी से ही यह सारा दरबार इतना चमकता है?”

Moral Kahani in Hindi

मिट्टू ने हँसते हुए कहा, “हाँ, महाराज, यह कुंजी हमारी है और हमने इसका उपयोग अपने दरबार को सुंदर बनाने के लिए किया है।”

राजा ने उन्हें सराहा और कहा, “तुम दोनों ने सच्ची मेहनत और बुद्धिमत्ता से यह दरबार सजाया है। तुम्हारी समर्पणशीलता और जोश को देखकर मुझे बड़ा गर्व है।”

राजा ने मिट्टू और चूहे को सम्मानित किया और उन्हें बड़े पुरस्कार दिए। गाँववालों ने भी उन्हें बहुत सारा प्रशंसा दी और उन्हें गाँव के गर्व से देखा।

इसके बाद, मिट्टू और चूहे ने समझा कि मेहनत, साहस, और सहयोग के साथ हर मुश्किल को पार किया जा सकता है। उन्होंने यह सीखा कि सफलता का कुंजी विश्वास, मेहनत, और सहयोग में छिपा होता है।

इसके बाद से, मिट्टू और चूहे ने मिलकर गाँव की सेवा में और भी अधिक मेहनत की और गाँववालों के बीच भयंकर दोस्ती का सिलसिला बना। उनका एक और उदाहरण बन गया कि अगर कोई भी समृद्धि और सफलता प्राप्त करना चाहता है, तो उसे दृढ़ता, ईमानदारी, और साहस की आवश्यकता है।

Suggestions Article
Short Motivational Story in Hindi Language
Very Short Story in Hindi 
Story in Hindi Small
Moral Kahani in Hindi
Short Story With Moral in Hindi

3. गिलहरी की कहानी : Moral Kahani Hindi Mein

बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गाँव में एक प्यारी सी गिलहरी रहती थी। उसका नाम छुटकू था। छुटकू गाँव के बगीचे में एक छोटे से खुदरा में रहती थी, जहां उसे अपनी खोज-खोज में खेतों में घूमने का आनंद मिलता था।

moral kahani hindi mein

छुटकू अपने छोटे से आकार के बावजूद बहुत होशियार थी। वह हमेशा खुदरा में उच्च बृहदाकार्यों की तलाश करती थी और अपनी दुनिया को बड़ी सीखों से भर देती थी।

एक दिन, छुटकू ने बड़े गुमनाम एक पुराने पेड़ के नीचे एक छोटे से खोज में कुछ बड़ा और चमकीला मिला। वह एक पुरानी बूटी में एक चमकते हुए मोती की जड़ ढूंढ रही थी। छुटकू ने उसे निकाला और हेरफेर में देखा, वह मोती वाकई अद्भुत और प्रमुख था।

छुटकू का दिल खुशी से भर गया क्योंकि वह समझती थी कि इस मोती का उपयोग उसके लिए कुछ अच्छा कर सकता है। वह उस मोती को अपने गाँव के दूसरे जानवरों के साथ साझा करने का निर्णय लिया।

छुटकू ने गाँववालों को बताया कि उसने एक खास मोती पाया है और वह उसे सभी के साथ साझा करना चाहती है। गाँव के बच्चे और बड़े सभी अब खुशी-खुशी उस मोती की बातें सुनने के लिए उत्सुक थे।

गाँववालों ने मिलकर एक बड़ा और चमकीला दरबार तैयार किया, जहां वह मोती को सभी के सामने प्रदर्शित करेगी। दरबार का आयोजन किया गया और सभी ने अपने विशेष तैयारियों में लग गए।

दिन आया और दरबार की तैयारियाँ पूरी हो गईं। छुटकू ने मोती को एक अद्वितीय पूर्णता के साथ रखा और दरबार के दरवाजे खोले। सभी गाँववाल आदर्श रूप से बैठे थे और उत्साहित थे कि वे इस अद्भुत मोती को देखेंगे।

Moral Kahani in Hindi

छुटकू ने मोती को हाथ में लेकर सबके सामने पहुंचते हुए कहा, “देखो गाँववालों, यह मोती हमें सिखाता है कि सच्ची शान्ति और सुख हमें उस चीज में है, जो हमारे पास है, और हमें इसे सभी के साथ साझा करना चाहिए।”

छुटकू ने मोती को सभी के सामने बताया और फिर उसने इसे गाँव के बच्चों और बड़ों के बीच साझा करने का निर्णय लिया। उसने मोती को हर किसी के साथ बाँटा, चाहे वह छोटा हो या बड़ा।

गाँववालों ने छुटकू की उदारता और साझेदारी की स्वीकृति की और वे सभी ने मिलकर एक बड़े परिवार की भावना से जीने का निर्णय लिया।

इस साझेदारी ने गाँव को एक सजीव और मिलनसर स्थान बना दिया। लोग अब एक दूसरे के साथ सहयोग करते थे और समृद्धि की दिशा में बढ़ रहे थे। गाँव में हर किसी को एक दूसरे के साथ अच्छा मेलता था और वहां की चारों ओर एक मिठास सी बनी रहती थी।

छुटकू ने एक छोटे से मोती से सबको एक बड़े और अमूल्य अध्यात्मिक सजीव मूल्यों का सिखाया। उसने सिद्ध किया कि अगर हम अपनी संपत्तियों को साझा करते हैं, तो उनका अधिक से अधिक आनंद ले सकते हैं और हमारा जीवन खुशियों से भरा रहता है।

छुटकू की सहज और सजीव कहानी ने सिखाया कि संपत्ति या सौंदर्य सिर्फ उन्हीं के लिए महत्वपूर्ण है जो इसे साझा करने का साहस रखते हैं।

Suggestions Article
Sad Story In Hindi
Stories In Hindi Love
Sad Stories in Hindi Language
Horror Stories in Hindi
Short Stories in Hindi Language With Moral
Hindi Love Story Hindi Love Story

4.कौवा और कोयल की कहानी :Moral Kahani Lekhan in Hindi

बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गाँव में एक कौवा और एक कोयल एक-दूसरे के पड़ोस में रहते थे। यह दोनों अच्छे दोस्त थे और हमेशा एक-दूसरे के साथ वक्त बिताते थे। गाँववाले भी इन दोनों की दोस्ती को देखकर हैरान रहते थे, क्योंकि कौवा और कोयल अपने आप में एक अद्वितीय दोस्ती का प्रतीक बन गए थे।

moral kahani lekhan in hindi

एक दिन, कोयल ने कौवे से कहा, “दोस्त, हम दोनों का संगीत मिलकर अद्भुत होता है, क्या हम एक साथ कुछ नया कर सकते हैं?”

कौवा मुस्कराया और बोला, “बिल्कुल, कोयल! हम एक साथ कुछ अद्भुत कर सकते हैं।”

उन्होंने मिलकर नए संगीतीय कला की शुरुआत की। कोयल अपनी मधुर स्वरों में गाने लगी और कौवा ने उसके साथ मेलोदिक स्वरों में अपनी आवाज़ मिलाई। गाँव में हर कोई हैरान हो रहा था कि इतनी सुंदर ध्वनि गाँव के कहीं भी से आ रही है।

कौवा और कोयल का संगीत गाँववालों के दिलों को छू गया था। इन दोनों का संगीत सुनकर लोग खुशी से भरे हुए थे और उन्होंने इन दोनों की कला की सराहना की। इसके बाद से, कौवा और कोयल का संगीत गाँव की धारों में बहता रहा।

Moral Kahani in Hindi

एक दिन, गाँव में एक महाराजा आया जिसने कहा, “मैंने सुना है कि यहां किसी बहुत ही सुंदर संगीतकार हैं।”

लोगों ने उसे कौवा और कोयल के संगीत का अनुभव कराया। महाराजा ने भी यह सुना और बहुत प्रभावित होकर उन्हें अपने दरबार में बुलवाया।

दरबार में पहुंचकर, कौवा और कोयल ने अपना संगीत सुनाया। महाराजा ने उनके संगीत को बहुत प्रशंसा की और कहा, “तुम दोनों मिलकर एक ऐसा संगीत बना रहे हो जो हमें अत्यंत प्रभावित कर रहा है।”

महाराजा ने उन्हें राजमहल में अपने संगीतकला के लिए रखा और उन्हें अपने सबसे विशेष संगीतकार मान लिया।

कौवा और कोयल ने बहुत मेहनत की और एक नए संगीत की शृंगारशास्त्र में नए रूप और धुनों का अध्ययन किया। उन्होंने एक नया शैली विकसित किया और उनका संगीत समृद्धि और सौंदर्य की अद्वितीयता से भरा हुआ था।

महाराजा के दरबार में उनका संगीत एक नये युग की शुरुआत कर दी थी। उनका संगीत भगवान की प्रशंसा में था और लोग उनके संगीत के आदी बन गए थे।

एक दिन, महाराजा ने कौवा और कोयल से कहा, “तुम दोनों का संगीत इतना अद्भुत है कि मैं चाहता हूँ कि तुम अपने संगीत को बाहर बिखेरो और सभी लोग इसका आनंद उठाएं।”

कौवा और कोयल ने महाराजा की इच्छा को मानते हुए अपना संगीत सारे राज्य में फैलाने का निर्णय किया। वे अपने संगीत के माध्यम से लोगों को आदर्श तात्कालिक समाजी और नैतिक मूल्यों के प्रति सकारात्मक बनाने का प्रयास करना चाहते थे।

वे गाँव से शहर, शहर से राज्य, और राज्य से पूरे देश में घूमते रहे और अपना संगीत सुनाते रहे। लोग उनके संगीत के प्रभाव में आकर अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव कर रहे थे।

एक दिन, एक बड़ी सभा में जब कौवा और कोयल ने अपना संगीत सुनाया, तो एक युवक ने उनसे पूछा, “तुम दोनों कैसे हो सकते हो इतने अद्भुत संगीतकार?”

कौवा ने हंसते हुए कहा, “हम दोनों में विशेषता इसलिए है क्योंकि हमने एक-दूसरे की सुनी हुई बातों को समझने का प्रयास किया, एक-दूसरे को समर्थन और प्रेरणा दी, और हमारा संगीत एक साथीपन्न और समर्थन का परिणाम है।”

कोयल ने भी जोड़ा, “हम यह सिखा हैं कि विभिन्नता में एकता है और यदि हम एक-दूसरे का समर्थन करें तो हम साथ में किसी भी समस्या का सामना कर सकते हैं।”

इसके बाद से, वे दोनों ने अपनी संगीतीय कला को और भी ऊँचाइयों तक पहुँचाया और देशवासियों को सामाजिक और नैतिक मूल्यों के प्रति जागरूक किया।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि साझेदारी, समर्थन, और समर्पण से ही अद्भुतता और सफलता की प्राप्ति हो सकती है। विभिन्न योजनाओं और दृष्टिकोणों को मिलाकर हम एक बेहतर और समृद्धि युक्त समाज का निर्माण कर सकते हैं।

Suggestions Article
Love Story in Hindi Sad
Love Story in Hindi Story
Love Story in Hindi
Very Short Story in Hindi
Story in Hindi